Saturday, 15 August 2020

Internet पर Viral Bhagat Singh की फोटो | क्या ऐसे यातनाएं दी थी !

0

Bhagat Singh Viral Images on Internet    

भारत आज जिस खुली हवा में सांस ले रहा है | इस बेश कीमती फिज़ा के लिए हजारों लाखों भारतियों नें अपने लहू का बलिदान दिया है | घर परिवार सपने ज़मीन जायदाद और हर मौज शौख भूल कर क्रन्तिकारी एक ही सपना जी रहे थे | भारत की आज़ादी का सपना | देश की आज़ादी के लिए वैसे तो अनगिनत लोगों नें अपना अहम् योगदान दिया है | लेकिन उनमें से कुछ लोग ऐसा काम कर गए की, इतिहास में उन्हें अमरत्व प्राप्त हो गया | उन्ही में से एक वीर थे Bhagat Singh जिन्हें भारतीय आज़ादी की लड़त का एक अहम् हीरो माना जाता है | देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने वाले इस वीर क्रन्तिकारी का जीवन बेहद रोचक और शौर्य से भरा हुआ था | उनके मित्र हों या शत्रु सब उनकी प्रशंशा करते नहीं थकते थे | हमारे देश में एक चलन है | जब भी आज़ादी दिवस 15 अगस्त यां 26 जनवरी का दिन होता है तो बड़े लाड से इन वीर जवानों को याद किया जाता है | लेकिन आज हम आप को कुछ ऐसे राज़ बताने वाले हैं जो शायद भगत सिंह के बारे में आप नें आज तक नहीं सुने होंगे |

Internet पर Viral Bhagat Singh की फोटो

आज कल 15 अगस्त का खुमार ज़ोरों पर है | ऐसे में इन्टरनेट पर एक पुरानी Black & White तस्वीर धड़ल्ले से वाइरल हुए जा रही है | जिसमें एक व्यक्ति खम्भे से बांधा गया है | और उसे एक नौकरशाह बेरहमी से कोड़ों से पिट रहा है | लोगों का दावा है की, यह तस्वीर क्रांतिवीर भगत सिंह की है | इतिहास के पन्ने पलटने पर इस घटना का कोई शाक्ष्य नहीं मिलता है | फिर भी यह तस्वीर किसी नें बिना फैक्ट चेक सोशल मिडिया पर चला दी है |


15 अगस्त पर PM Modi का संदेश

भारत हाल में अपना 74 वा स्वतंत्रता दिवस मना रहा है | यह हमारे देश के लिए बड़े गर्व का अवसर है | अमूमन इस मौके पर हमारे देश के प्रमुख नेता और सेलेब्रिटी झंडा फेहरा कर और भासण दे कर देश को संबोधित करते हैं | लेकिन वर्तमान समय में कोरोना महामारी के चलते सारे त्यौहार और प्रमुख दिवस की महत्ता फीकी पड़ी हुई है | फिर भी देश के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी नें दिल्ली में लाल किले की प्राचीर से देश वासियों को संदेश दिया है | सोशल मिडिया पर भी 15 अगस्त की खुमारी का माहौल है | भारत के निवासी एक दुसरे को 15 Augest की शुभकामना और छवि संदेश भेज कर बधाई दे रहे हैं | टीवी चैनल पर भी देश भक्ति से जुड़े कार्यक्रम और फिल्म्स का प्रसारण किया जा रहा है |

Bhagat Singh Viral Image Truth

जैसे की हमने आप को बताया, भगत सिंह की एक फोटो वायरल है | यह तस्वीर फेसबुक से ले कर व्हात्सपप और अन्य सोशल मिडिया में चल रही है | जिसे भर भर के तवज्जो दी जा रही है | इसके साथ एक पुराने अखबार की कटिंग भी है | इस फोटो के साथ लिखा हुआ है की, कोड़े खाते हुए भगत सिंह की दुर्लभ फोटो, और इतिहास कार हमें बताते हैं की देश को आज़ादी गांधी और नेहरु नें दिलाई है | वैसे तो किसी ख़ास दिन पर ऐसी तस्वीर बड़ी आसानी से वाइरल हो जाती है लेकिन, हम आप को बता दें की आप जब भी किसी तस्वीर या समाचार को सामान्य जनता के सामने प्रस्तुत करें | उस से पहले किसी विश्वसनीय सूत्र के हवाले से उसे जांच लेना ज़रूरी होता है | चूँकि आज के ज़माने में कायदे कानून सायबर लो के मामले में बड़े सख्त है | हाल ही में सोशल मिडिया के भड़काऊ भासण और गलत जानकारी के चलते दंगे फसाद भी हो चुके हैं | ऐसे में एक छोटी सी गलती आप को कानून के पचड़े में भी फंसा सकती है |


Bhagat Singh Viral Image पर Google का ज्ञान

अगर आप इस तस्वीर की खोज google पर करते हैं तो भगत सिंह वाले दावे की पोल खुल जाएगी | दरअसल यह तस्वीर अखंड भारत के पाकिस्तान की है | और यह मामला वर्ष 1919 का है | इस फोटो को कसूर रेलवे स्टेशन पर खिंचा गया था |  

Bhagat Singh Viral Image Reality

जब यह घटना हुई थी | तब भगत सिंह केवल 12 से 13 साल के हुआ करते थे | उस समय भगत लाहौर के DAV School में अभ्यास करते थे | भगत सिंह नें वर्ष 1920 तक किसी स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया और ना ही अंग्रेजों नें कभी पहले उन्हें गिरफ्तार किया था |

Bhagat Singh Viral Image किसने पोस्ट की थी

google पर रिवर्स इमेज सर्च की सहायता से इस बात का पता चला है की, वर्ष 2018 में KIM A WAGENER नें इसे इन्टरनेट पर डाला था | वह लंदन के निवासी हैं और उन्होंने इस तस्वीर को ट्विटर पर पोस्ट किया था | WAGENER लंदन में क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर की नौकरी करते हैं | वह ग्लोबल एंड इम्पीरियल हिस्ट्री का विषय छात्रों को पढ़ाते हैं |

Bhagat Singh Viral Image को ले कर KIM A WAGENER का पोस्ट

उन्होंने अपने ट्विट में लिखा था, पंजाब में कसूर में कोड़ों से मार कर सज़ा देने की यह तस्वीर है | भारत देश की एक और तस्वीर जिसमें कसूर के रेलवे स्टेशन पर सीढि के खम्भे से बंधे व्यक्ति को कोडें मारे जा रहे हैं | इस पोस्ट की असलियत की बात करें तो साफ़ पता चलता है की, वहां पर किसी भी जगह पर भगत सिंह का नामा मेंशन नहीं किया गया है | और ना ही पोस्ट डालने वाले व्यक्ति नें भारत की आज़ादी से जुड़े किसी प्रसंग का ज़िक्र किया है | तो अब इस बात से KIM A WAGENER की इस पोस्ट की सच्चाई पता चल गई |  

Bhagat Singh Viral Image और Reality Facts

·        History Facts अनुसार इस घटना के वक्त भगत सिंह केवल 12 वर्ष के थे | “द जेल नोटबुक एंड अदर रायटिंग्स” में भी इस बात का प्रमाण मिलता है | यह किताब भूपेंद्र हुजा के संपादन में प्रकाशित हुई है |

·        वर्ष 1919 में जलियावाला हत्याकाण्ड हुआ था | जिसमें हजारों बेगुनाह लोग मारे गए थे | इस जगह पर भगत सिंह गए थे | वर्ष 1919 में भगत सिंह को ब्रिटिश सरकार नें गिरफ्तार किया हो, यां उन्हें सार्वजनिक तौर पर किसी भी तरह की सज़ा दी गई हो, इतिहास में ऐसा कोई उल्लेख नहीं है |

·        भगत सिंह स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से वर्ष 1920 में शामिल हुए थे | इस बात का साक्ष्य डिक्शनरी ऑफ़ इंडियन मार्टियर्स इंडियास फ्रीडम स्ट्रगल (1857-1947) में भी मौजूद है |

संकलन – अभी तक इस बात का पता नहीं चल सका है की तस्वीर में यातना भुगतने वाले व्यक्ति का गुनाह क्या था | और उसे किस कारण वह अमानवीय सज़ा दी गई थी | लेकिन मौजूदा Facts के अनुसार वह तस्वीर Bhagat Singh की तो कतय नहीं है | यह पुरे विश्वास के साथ कहा जा सकता है | इन्टरनेट पर आए दिन कई तस्वीरें वाइरल होती रहती हैं | इस तरह के कांड कर के कई लोग अपना निजी मतलब साध लेते हैं | और Historic Facts के साथ छेड़ छाड़ की जाती है | पाकिस्तान के कसूर रेलवे स्टेशन से जुडी उस Image के बारे में कोई अतिरिक्त जानकारी आप के पास उपलब्ध हो तो हमारे वांचक गण के साथ उसे अवश्य शेयर करें | आप अपने मंतव्य कमेन्ट सेक्शन में साझा कर सकते हैं | Bhagat Singh Viral Image विषय को पूरा पढने और Real Fact जान ने के लिए धन्यवाद | 15 अगस्त की ढेर सारी बधाईयां | जय हिन्द    

Author Image

About PMB
Soratemplates is a blogger resources site is a provider of high quality blogger template with premium looking layout and robust design

No comments:

Post a comment